क्या करें


                                                 मुस्कुराते हम हैं हर तस्वीर में
                                                 झिलमिलाती इस नज़र को क्या कहें?

                                                 इक मुक़्क़मल ख़्वाब होती ज़िंदगी
                                                 दिल तेरी यादों का घर, अब क्या करें।

                                                खामोश है, सुनसान है मेरा मकां
                                                तेरी बातों का असर, हम क्या कहें?

                                                उलझनें कमबख्त दिल को कम ना थीं
                                                है तेरी रंजिश भी अब सर, क्या करें...
                   

                                                सुर्ख़ अल्हड़पन, सिंदूरी शोखियाँ
                                                आज गुमसुम गुलमोहर वो, क्या कहें...

                                                बातों से महका, लदा किस्सों से था,
                                                उस शज़र पे आज पतझर, क्या करें!

                                               पढ़ते क़सीदे थे कभी हर बात पर
                                               आज शिक़वे बस मुसलसल क्या कहें!

                                               बारहा शब के अंधेरे कम ना थे
                                               मौत जैसी इस सहर का क्या करें?



झिलमिलाती -  shimmering with tears                          शज़र- a tree in bloom
मेरा मकां - my soul.                                                          मुसलसल- connected, chained, always
बारहा - often.                                                                   सहर - morning, dawn




6 comments:

  1. शानदार शब्दों से प्रभावित करता लेखन । शब्दों का आपका चयन जबरदस्त होता है ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत आभार, योगी जी। Always a pleasure to have you here :)

      Delete
  2. Udaas muskuraahat..khaamoshi aur nafaasat..you said it, Kokila!
    B-E-A-U-T-I-F-U-L beyond words!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. It's your perception and understanding of the nuances of language and emotions both, which make you feel this to be so...Glad you are here. :)

      Delete
  3. Very great post. I simply stumbled upon your blog and wanted to say that I have really enjoyed browsing your weblog posts. After all I’ll be subscribing on your feed and I am hoping you write again very soon!

    ReplyDelete

Your views make this blog work ...Thanks a lot. :)