Snow-Falling-Effect

Sunday, July 30, 2017

कुछ खास नहीं..



                                                         मन का कोई कोना जब पूछे,
                                                         वो कौन थी, उसका नाम था क्या?
                                                         समझा देना ऐसे ही थी।
                                                         उसको अपना आभास नहीं
                                                         ऐसे ही थी कुछ खास नहीं।

                                                        सपने सी झट से खुल जाती,
                                                        हर्फ़ों सी यूँ ही धुल जाती,
                                                        खारे जल में घुल- घुल जाती,
                                                        सच सी उसमे कोई बात नहीं,
                                                        ऐसे ही थी, बस,  खास नहीं

                                                        बदरी जैसे वो रो जाती
                                                        ऐसे-कैसे भी सो जाती!
                                                        गुड़िया जैसी बेहिस थी क्या?
                                                        सब संग थे पर, कोई पास नहीं,
                                                        खोयी खोयी, कुछ ख़ास नहीं।

                                                         गाने की धुन ज्यों, टूटी सी,
                                                         बच्चों जैसी, कुछ रूठी सी,
                                                         बस एक कहानी झूठी सी
                                                         बातें उसकी, अब याद नहीं
                                                         ऐसे ही थी, कुछ खास नहीं।

                                                          आफिस से घर तक की साथी 
                                                          घर तक पहुंचा कर ही जाती!
                                                          रस्ते भर इतना बतियाती
                                                          ख़ुद के बारे में बात नही
                                                          ऐसी थी वो, कुछ खास नहीं।

                                                            भूला उसको मैं पल भर में
                                                            इतनी मणियों के सागर में
                                                            दुर्लभ का मैं गुणग्राहक हूँ
                                                            साधारण नेह पर्याप्त नहीं
                                                            ऐसे ही थी, 
                                                                            ... कुछ खास  नहीं।





आभास- realization                                            हर्फ़ों- letters, alphabets
खारे जल- tears                                                    बेहिस- dead, without feelings
सच सी उसमे कोई बात नहीं- not having real worldly qualities of logic and sensibilities, someone who is intangible and virtual.
 साधारण- ordinary                                              नेह- affection
दुर्लभ- rare, (here- popular and titular)


An impromptu verse I wrote last year but the line 'kuchh khaas nahi' is borrowed from some couplets I came across on internet. Or may be a newspaper magazine! Things are hazy except this 'radeef' and the essence of those couplets.


22 comments:

  1. Waaah! Bahut Khoobsurat Panktiyaan!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you, our very own shayar sahab! A pleasure you liked, Madhusudan!😊😊

      Delete
  2. 'Laakh chhupao chhup na sakega raaz ho jitna gahraa'...the autobiographical element looms large in this incredibly beautiful creation!
    I especially loved,' खारे जल में घुल- घुल जाती','गुड़िया जैसी बेहिस',and 'बदरी जैसे वो रो जाती'...kya gazab ka likha hai aapne, Kokila!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you, Amit! It's always a pleasure to know that you have liked something written by me...Keeps me scribbling on. :)

      Delete
  3. Beautiful, sensitive and spontaneous feelings...

    ReplyDelete
  4. कहाँ आसान होगा ये कहना ... जब झोंके याद दिलाएंगे तो खुद बी खुद उनका नाम आ जायगा ...
    प्रेम का गहरा एहसास लिए शब्द ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. बिल्कुल सही कहा,बहुत बहुत धन्यवाद। :)

      Delete
  5. रचती हो मोती शब्दों के
    और कहती हो कुछ ख़ास नहीं ?
    तारीफ़ करूँ किन शब्दों में
    वो अभिव्यक्ति मेरे पास नहीं |

    शब्दों की ये सादगी सीधे मन को छू गयी कोकिला| बहुत सुन्दर|

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने इन प्यारे शब्दों से
      आप्लावित कर देती हो मन
      स्नेहिल,सुंदर,निःस्वार्थ मधुर,
      देते ये प्रति पल प्रोत्साहन

      ढेर सारा धन्यवाद,संगीता जी। :)

      Delete
  6. ***** मन की सीप में सोती सोती
    कोकिला गुनती रहती मोती

    ReplyDelete
    Replies
    1. इतनी प्यारी बात है बोली
      सुनकर मन की कोकिल डोली।
      Thank-you,SO much! :)

      Delete
  7. Bas khas nahi...dil ko behelane ke liye ye khayal bhi acha hai..loved it so much.. beautifully expressed would be a very small world for it .it's so soulful

    ReplyDelete
    Replies
    1. It's always a pleasure to hear from you dear friend!...And this time is no exception... Thankyou SO much for the wonderful words! Love n hugs!:) :)

      Delete
  8. kuchh khash nahi...kuchh khash nahi....kahan kuchh khash nahi!!!!!! kavita padHke toh aisa nahi laga....
    Lovely write up.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thank-you, jyotirmoy!Means much!😊😊

      Delete

Your views and thoughts make this blog work ...Thanks a lot. :)

You May Also Like

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...